Dr. Avinash Supe - Aarogya Sampada - 12 June 2018 - कावीळ आणि पित्ताशयाचे खडे

author Doordarshan Sahyadri   4 мес. назад
200 views

3 Like   1 Dislike

Dr. Jaganath Vinayak Dixit - Aarogya Sampada - 06 August 2018 - विनासायास वेटलॉस आणि मधुमेह प्र...

आरोग्य संपदा हा दूरदर्शन सह्याद्री वाहिनीवरील विशेष कार्यक्रम डॉ.जगन्नाथ विनायक दिक्षित, प्राद्यापक आणि विभाग प्रमुख, जनऔषध वैद्यकशास्त्र शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय, लातूर यांचा विनासायास वेटलॉस आणि मधुमेह प्रतिबंध हा विशेष कार्यक्रम आरोग्य संपदा या कार्यक्रमात ०६ ऑगस्ट २०१८ रोजी प्रसारण झाले होते... आपण पाहू शकला नसाल तर जरुर पहा हा व्हिडिओ....आरोग्य संपदा.... DD Sahyadri Doordarshan Mumbai Sahyadri Marathi Show : आरोग्य संपदा (Live) (०६ ऑगस्ट २०१८) Subject : ' विनासायास वेटलॉस आणि मधुमेह प्रतिबंध.... ' Participant : डॉ.जगन्नाथ विनायक दिक्षित, प्राद्यापक आणि विभाग प्रमुख, जनऔषध वैद्यकशास्त्र शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय, लातूर Anchor : डॉ. अपर्णा राऊत Social Media Operator : वनिता राऊत - मांजरेकर Producer : शेख आझम मणियार / डॉ. अश्विनी कुमार

२ वेळा लग्न केलेले मराठी कलाकार I Marathi Actors who Married Twice In Real Life

Someone once brilliantly pointed out that some get lucky in love right away while some take a second shot at it and eventually find happiness. When we talk about second marriages, there are some marathi celebrity who may have had a first failed marriage, but have gotten lucky a second time in love.

पित्त की पथरी का सबसे आसान इलाज - Most Easy Treatment Of Gallstones In Hindi

पित्त की पथरी का सबसे आसान इलाज - Most Easy Treatment Of Gallstones In Hindi Hello friends, Gallstones is really painful. Gallstones are crystalline compounds usually made up of calcium salts, cholesterol and bile. They can be as small as a grain of sand or as large as a golf ball, but all are considered abnormal and eventually compromise the function of your gallbladder. SO in this video we are going to explain most easy and best treatment for gallstones.

पित्त पथरी क्यों होती है? पित्ताशय की लेप्रोस्कोपिक सर्ज...

पित्ताशय क्या है? पित्ताशय पित्त का एक भंडारण टैंक है। पित्त लिवर में बनता है, पित्ताशय में संग्रहीत होता है, आंत में स्रावित होता है और आपके खाने में मौजूद वसा को आपके शरीर में अवशोषित करने में मदद करता है। पित्ताशय भोजन से उत्तेजित होता है और बदले में पाचन में सहायता करने के लिए अतिरिक्त पित्त पैदा करता है। पित्ताशय एक छोटा सा बैग, आमतौर पर एक नाशपाती के आकार का होता है, जो पेट के दाहिनी तरफ लिवर के नीचे उपस्थित होता है। पित्त को लिवर बनाता है। पित्त एक ट्यूब, जिसे सामान्य पित्त नली कहा जाता है, के माध्यम से लिवर से बाहर बहता है। यह लिवर की सतह से उभरता है और आमतौर पर एक पीने की स्ट्रॉ की जितनी मोटाई के बराबर होता है। पित्ताशय जहाँ से लिवर से उभरता है, उस स्थान पर वह पित्त नली से ऐसे लटका हुआ होता है, जैसे एक नाशपाती एक शाखा से लटकी होती है। पित्त नली निचली तरफ जाती है और डुओडीनम (आंत का एक हिस्सा) में प्रवेश करती है जहां पित्त भोजन के साथ मिश्रित होता है। अग्नाशय नली, जो अग्नाशय से पाचक रस निकालती है, वह भी उसी जगह पर आंत में खाली होती है। पित्ताशय लिवर द्वारा निर्मित पित्त की कुछ मात्रा को संग्रह करके रखता है। भोजन, विशेष रूप से वसायुक्त भोजन, के बाद पित्ताशय में रासायनिक संकेत जाते हैं, जिससे संग्रह किया हुआ पित्त बाहर निकलता है जो पित्त नली में, और वहां से पेट में जाता है। पित्त पानी, कोलेस्ट्रॉल, वसा, पित्त लवण, प्रोटीन, और एक पीले रंग के द्रव्य बिलिरूबिन से बना होता है। यह वसा के पाचन में मदद करता है। पित्त पथरी क्यों होती है? महिलाओं में, खासकर 20 और 60 साल की उम्र के बीच, पुरुषों की तुलना में पित्त पथरी होने की संभावना ज़्यादा होती है। सामान्यतः, 60 की उम्र से अधिक लोगों (पुरुषों और महिलाओं) में पित्त पथरी होने का खतरा ज़्यादा होता है। जो लोग मोटापे के शिकार हैं उनमे पित्त पथरी होने की संभावना और अधिक होती है। गर्भधारण के कारण अतिरिक्त एस्ट्रोजन, हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी, या गर्भनिरोधक गोलियों से पित्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है, पित्ताशय के खाली होने की गति धीमी हो सकती है और पित्त पथरी उत्पन्न हो सकती है। जिन लोगों में पित्त संक्रमण (जैसे ट्रॉपिक्स में लिवर फ्लूक) होता है उनमे पित्त पथरी विकसित हो सकती है। सिकल सेल एनीमिया (जिसमें रक्त कोशिकाओं के टूटने के कारण बहुत ज्यादा बिलीरूबिन बनता है) जैसे वांशिक रक्त विकारों से ग्रसित लोगों में पिग्मेंट पथरी होने की संभावना अधिक होती है। आहार नियंत्रण करना (तेजी से वजन घटाने के साथ) और कुछ कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं भी पित्त पथरी के खतरे को बढ़ा सकती है। रक्त में कोलेस्ट्रॉल की उच्च स्तरीय मात्रा ही पित्त पथरी के बनने का एकमात्र कारण नहीं हो सकता। पित्त पथरी का खतरा किनमें ज़्यादा है? महिलाओं को पुरुषों की तुलना में पित्त पथरी होने की संभावना अधिक है क्योंकि गर्भावस्था में पथरी का खतरा अधिक होता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले कुछ लोगों को भी खतरा है। क्या पित्त पथरी खतरनाक है? पित्त पथरी खतरनाक हो सकती है। लेकिन, जबकि इस देश में 2 करोड़ लोगों को पित्त पथरी है, ज्यादातर लोगों को उससे कोई समस्या नहीं होती है। मरीजों को पथरी से जो गंभीर समस्याएं होती हैं, सामान्यतः उनमे लिवर या अग्न्याशय की जटिलताऐं शामिल होती हैं। जिसमें भी पित्त पथरी के लक्षण हों उसका सर्जरी के लिए मूल्यांकन किया जाना चाहिए। जिन रोगियों को मधुमेह और पित्त पथरी है उनमे संक्रमण का अधिक खतरा होता है और कुछ सर्जन लक्षणों की परवाह किए बिना भी सर्जरी की सलाह देते हैं। पित्त पथरी के क्या लक्षण होते हैं? विशिष्ट पित्ताशय लक्षणों में खाने के बाद पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द या बेचैनी, अक्सर बीच में या पसलियों के नीचे दाईं ओर, शामिल हैं। कभी कभी दर्द और बेचैनी पीठ में भी महसूस किये जा सकते हैं। कुछ रोगियों को उबकाई या उल्टी होती है, और कुछ रोगियों को खाने के बाद अक्सर एक "गैसीय" अनुभव के साथ केवल अपच महसूस होती है। अधिकांश लक्षण तले हुए या वसायुक्त खाने के बाद बदतर हो जाते हैं, लेकिन कभी कभी किसी भी तरह के भोजन से शुरू हो सकते हैं। मुझे पित्त पथरी या पित्ताशय दर्द के लिए सर्जन से कब मिलना चाहिए? यदि आपमें उपरोक्त लक्षणों में से कोई भी हैं और पूर्व में पित्त पथरी का निदान किया जा चुका है, तो आपका एक सर्जन द्वारा मूल्यांकन किया जाना चाहिए। क्या मुझे किसी विशेष एक्स-रे की ज़रूरत है? अधिकांश रोगियों को केवल एक अल्ट्रासाउंड, बिना विकिरण वाले एक सस्ते परीक्षण की जरूरत होती है। पित्त पथरी के निदान के लिए अतिरिक्त परीक्षण की शायद ही कभी जरूरत हो, लेकिन अगर आवश्यकता हुई, तो आपका सर्जन इसका आदेश देगा। पित्ताशय की लेप्रोस्कोपिक सर्जरी क्या है? पित्ताशय की लेप्रोस्कोपिक सर्जरी को अब 25 साल पूर्ण हो चुके हैं। इसमें पेट में छोटे चीरों (¼ से ½ इंच) का इस्तेमाल लंबे पतले उपकरणों को उसी तरह की सर्जरी में सक्षम करने के लिए किया जाता है जो 6-12 इंच के चीरों के माध्यम से की जाती रही है। इस तरह की सर्जरी पित्ताशय, अपेंडिक्स, पेट और उदर के अन्य ऑपरेशन के लिए केयर का मानक बन गयी है। पित्ताशय की सर्जरी में 4 छोटे छेद बनाए जाते हैं और पित्ताशय बैली बटन से हटा दिया जाता है। For more information: https://www.laparoscopyhospital.com/

Top indian Doctors | भारत के 5 प्रसिद्ध डॉक्टर

Videos shows 5 famous indian doctors. Top indian doctors indian doctor indian doctors top doctors super doctor

DD Sahyadri
Doordarshan Mumbai
Sahyadri Marathi
Show : आरोग्य संपदा (Live) (१२ जून २०१८)
Subject : ' कावीळ आणि पित्ताशयाचे खडे.... '
Participant : डॉ. अविनाश सुपे, अधिष्ठाता, के. ई.एम. रुग्णालय, मुंबई
Anchor : डॉ. वैभवी वाकचौरे
Social Media Operator : वनिता राऊत - मांजरेकर
Producer : शेख आझम मणियार / डॉ. अश्विनी कुमार

Comments for video: